vaginal irritation problem

vaginal irritation problem | योनि में जलन की समस्या

vaginal irritation problem  महिलाओं के योनि में पानी आना या थोड़ी खुजली होना आम बात है। कभी कभी खुजली होना कोई बड़ी समस्या नहीं होती है, लेकिन लगातार खुजली होना, जलन होना यह संक्रमण व अन्य गंभीर समस्या का कारण बन सकता है। हालांकि ये लक्षण अचानक या थोड़े समय से धीमी गति से बढ़ रहा है। इसके अलावा संभोग करने से योनि में जलन या पेशाब के दौरान जलन की समस्या उत्पन्न हो सकती है। जैसा की आपको पता है महिलाओं अधिकतर बीमारी योनि के मार्ग से होती है, इसलिए योनि की सफाई रखनी चाहिए। योनि से जुडी समस्या के बारे में महिलाये आपस में बात करना पसंद नहीं करती है। शायद यह लेख महिला को बेहतर जानकारी दे सके। चलिए आपको योनि में जलन की समस्या के बारे में विस्तार से बताते है।

योनि में जलन होने के कारण और उपचार क्या है ? (Vaginal Burning Causes and Treatment in Hindi)

योनि में जलन अनेको कारण से होते है और इनके उपचार के बारे में निचे दिया गया है।

यीस्ट इन्फेक्शन के कारण – कुछ शोध के अनुसार महिलाओं को एक बार यीस्ट संक्रमण जरूर अनुभव किया होगा। यह संक्रमण तब होता है जब योनि में अधिक यीस्ट की संख्या अधिक रहती है। इसके वजह से योनि में जलन और खुजली होने लगती है। इसके अलावा कुछ निम्न लक्षण नजर आ सकते है। vaginal irritation problem

  • जैसे: योनि के बाहर लाल चक्क्ते आना।
  • सफ़ेद मोटा डिस्चार्ज होना।
  • योनि में खुजली व लालिमा व सूजन आना।

उपचार – यीस्ट संक्रमण का उपचार कुछ मामले में घरेलू उपचार या एंटीफंगल दावायो के माध्यम से किया जाता है। दवाओं में जेल,क्रीम, मरहम है जो आसानी से मेडिकल की दुकान पर मिल जाता है। यदि आपको यीस्ट संक्रमण पहली बार हुआ है तो चिकिस्तक से संपर्क करें।

बैक्टीरियल वेनिनोसिस के कारण – यह बैक्टीरियल संक्रमण खासतौर पर 15 से 40 की उम्र की महिला को होनेवाला सामान्य संक्रमण है। यह योनि में बड़ी मात्रा में संक्रमण को विकसित करता है। तब योनि में जलन की समस्या शुरू होने के साथ कुछ अन्य समस्या भी होती है।

  • जैसे: योनि के बाहरी सतह पर खुजली होना।
  • पतला सफ़ेद रंग का डिस्चार्ज होना।
  • सेक्स करने बाद मछली जैसे बदबू आना।

उपचार – बहुत से मामलो में बैक्टीरियल वेनिनोसिस अपने आप ठीक हो जाता है, इसके लिए उपचार की जरूरत नहीं पड़ती है। लेकिन अधिकतर महिलाओं में संक्रमण को ठीक करने के लिए चिकिस्तक कुछ एंटीबायोटिक की खुराक लेने की सलाह देते है।

योनि के संपर्क में आने वाली चीजे से जलन की समस्या – योनि के आसपास या भीतर उपयोग होने वाली चीजे जैसे कंडोम, पैड्स, क्रीम, स्प्रे, डूश, टेम्पोन आदि के उपयोग से योनि में जलन की समस्या उत्पन्न होती है। इसके अलावा जननांग में परेशानी बढ़ सकती है। उपचार – इस समस्या का सबसे आसान तरीका है इन उत्पादक का उपयोग न करे, तो जलन की समस्या अपने आप बंद हो जायेगे। यदि कोई नया उत्पादन का उपयोग कर रहे है तो उसका उपयोग करना बंद कर दे, यदि कोई कंडोम जलन का कारण बन रहा है तो उपयोग करना रोक दे व इसके बारे में चिकिस्तक से बात करे। कुछ लोगो की त्वचा संवेदनशील होती है जिसके कारण कंडोम सूट नहीं करते है। ऐसे में कंडोम को आसान बनाने के लिए लुब्रिकेशन की जरूरत पड़ सकती है। vaginal irritation problem

मूत्र पथ में संक्रमण होने कारण जलन होना – मूत्र पथ संक्रमण तब होता है, जब बैक्टीरिया मूत्राशय के भीतर चली जाती है। इस वजह से मूत्र करने पर जलन व दर्द की समस्या होने लगती है। इसके अलावा कुछ अन्य परेशानी का अनुभव कर सकती है।

  • जैसे: मूत्र में तेज गंध आना।
  • मूत्र करने के दौरान दर्द होना।
  • बुखार और ठंडी लगना।
  • मूत्र में खून आना।
  • झागदार मूत्र आना।
  • पीठ दर्द, कमर दर्द होना।

उपचार – अगर आपको मूत्र पथ में संक्रमण का जोखिम लग रहा है, ऐसे में चिकिस्तक के पास जाना चाहिए। चिकिस्तक कुछ एंटीबायोटिक दवाओं की खुराक लेने की सलाह देते है। इस बात का ध्यान रखे दवा का कोर्स पूरा करे, क्योंकि कोर्स ठीक से नहीं करने पर वापस से मूत्र संक्रमण हो जाता है। vaginal irritation problem

योनि में जलन ठीक करने के घरेलू उपचार ? (Natural Remedies of Vaginal Burning in Hindi)

योनि में जलन होने की समस्या कई कारण से हो सकती है। कुछ मामलो में उपचार की जरुरत नहीं पड़ती है, किंतु गंभीर होने पर चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होती है, और महिला को किसी तरह का संकोच है तो उसे डॉक्टर को देखना चाहिए। हालांकि घरेलू उपचार की बात करे तो महिला प्रभावित क्षेत्र पर आइस पैक या कोल्ड कंप्रेस लगा कर सनसनी को कम करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा त्वचा पर पेट्रोलियम जेली लगाने से भी इसे बचाने में मदद मिल सकती है। आप चाहे तो आइस पैक और पेट्रोलियम जेली ऑनलाइन पर भी खरीद सकते है। vaginal irritation problem

चिकिस्तक से संपर्क कब करें ? (When to see a Doctor in Hindi)

अगर योनि जलने की समस्या समय के साथ अपने आप ठीक हो जाये तो, किसी तरह की उपचार की जरूरत नहीं पड़ती है। इसके अलावा आपकी योनि की समस्या बढ़ती जा रही है तो यह चिंता विषय है, इसलिए बिना किसी देरी के महिला चिकिस्तक से संपर्क करना चाहिए।
ज्यादातर मामलों में, डॉक्टर एक बार दवा लिखेंगे, ताकि निदान हो सके। हालांकि जब महिला अंतर्निहित स्थिति का निदान किया होगा जिससे जलन हो सकती है। यौन साथी के साथ कोई भी जिसे हाल ही में एसटीडी निदान प्राप्त हुआ है, को भी डॉक्टर को देखने पर विचार करना चाहिए। vaginal irritation problem

योनि में जलन की संभव जटिलता ? (Possible complications of Vaginal Burning in Hindi)

योनि जलने के कुछ कारण, जैसे बी.वी. या एसटीडी, अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर कुछ गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं। एसटीडी विशेष रूप से उन महिलाओं के लिए जोखिम भरा है जो गर्भवती हैं, क्योंकि वे अपने बच्चे या गर्भावस्था को प्रभावित कर सकते हैं। बच्चे के जन्म के समय कुछ को पारित किया जा सकता है। जैसे क्लैमाइडिया, जननांग दाद, और ट्राइकोमोनिएसिस सभी अपरिपक्व प्रसव के साथ जुड़े हुए हैं। बी.वी., क्लैमाइडिया, गोनोरिया और ट्राइकोमोनिएसिस सभी लोगों को एचआईवी के अनुबंध के लिए अतिसंवेदनशील बनाते हैं यदि उनके पास वायरस वाले किसी व्यक्ति के साथ यौन संपर्क है। vaginal irritation problem

5 reasons, due to which foam starts to form in urine | 5 कारण, जिनसे पेशाब में बनने लगता है झाग
what to eat before sex | सेक्स से पहले क्या खायें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related posts

Recent Comments
    Recent Comments
      Navigation

      My Cart

      Close
      Viewed

      Recently Viewed

      Close

      Great to see you here !

      A password will be sent to your email address.

      Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes described in our privacy policy.

      Already got an account?

      Quickview

      Close

      Categories